Skip to content

7 Tips Self Confidence Badhane Ke Liye In Hindi | आत्मविश्वास कैसे बढ़ाये ?

7 Tips Self Confidence Badhane Ke Liye In Hindi | आत्मविश्वास कैसे बढ़ाये ?

आत्मविश्वास कैसे बढ़ाएं? अगर तुम ये सवाल गूगल कर रहे हो तो इसका सरल उत्तर यहीं दे देता हूँ।

तो कैसे हो भाई? आपका स्वागत है ये ज़िन्दगी के इस लेख में जिसमें हम चर्चा करेंगे आत्मविश्वास कैसे बढ़ाते हैं।

 

ज़िंदगी में आत्मविश्वास एक बहुत ही महत्वपूर्ण किरदार निभाता है। इस दुनिया में जितने भी सफल लोग हैं, उनमें आत्मविश्वास बहुत ही सामान्य है। मैं मानता हूँ कि बहुत लोगों को समझ नहीं आता की आत्मविश्वास उनके अंदर है की नहीं।

कुछ लोगों के साथ ये भी होता है की उनके सपने अगर पुरे ना हो, तब भी उनका आत्मविश्वास काम हो जाता है। अगर तुम्हारे साथ भी ऐसी कोई मुश्किल है तो निचे मैंने 7 टिप्स दिए हैं जिनके उपयोग से तुम्हारा आत्मविश्वास किसी ना किसी स्तर तक बढ़ ही जाएग।

 

आत्मविश्वास बढ़ाने के टिप्स

 

1. आत्म सम्मान बहुत ज़रूरी है

 

इस टिप को समझाने से पहले, मैं तुम्हें यह बता दूँ की आत्म सम्मान होती क्या है? क्या तुम खुद को मूल्य करते हो? अपने बारे में तुम्हारी खुद की सोच को आत्म सम्मान कहते है।

अब आत्म सम्मान बढ़ाते कैसे हैं? सबसे पहले चीज़ तो ये है की तुम्हें खुद को स्वीकार करना पड़ेगा की मैं ऐसा ही हूँ। मेरे में कुछ कमियाँ है ये मैं जानता हूँ पैर मेरे में ऐसी बहुत खूबियां है जिन पर मैं गर्व महसूस करता हूँ।

जैसे कुछ भी बनाने के लिए एक जड़ की जरुरत पड़ती है, वैसे ही आत्म सम्मान, आत्मविश्वास बढ़ने का आधार है। यह एक अलग विषय है, जिसको हम बाद में और गहराई में समझेंगे। अभी अगली टिप पर चलते हैं।

 

2. नई चीज़ें सीखो

 

तुम ही सोचो कि, तुम नई चीजें कब कब कोशिश करते हो? या फिर तुम अपने comfort zone (जब तुम्हें यह लगे कि जो चल रहा है सही है और तुम आगे नहीं बढ़ना चाहते, क्योंकि उसमें मेहनत है) में ही रहते हो?

और यह comfort zone भी एक कारण हो सकता है तुम्हारे आत्मविश्वास के काम होने का। जब भी तुम नई चीज़ें सीखते हो, तब तुम्हारे अंदर एक अलग ही एनर्जी होती है। इसे उपलब्धि कहते हैं। और इसके कारण तुम्हें अपने ऊपर भरोसा होने लगता है।

यह भरोसा तुम्हें तुम्हारा आत्मविश्वास बढ़ने में मदद करेगा। चाहे जिंदगी में कोई मुश्किलें क्यों न आये, तुम आगे बढ़ाते ही रहोगे।

 

3. Affirmations का इस्तेमाल करो

 

आज तक जितने भी बढ़े लोग हुए हैं, सब ने किसी ना किसी मोड़ पैर affirmations का इस्तेमाल किया है और करते हैं। अब affirmations होते क्या है? जो बातें तुम खुद को बार बार याद दिलाते रहो उसे affirmations कहते हैं।

अगर तुम रोज़ सुबह उठकर और सोने से पहले खुद को यह बोलो कि मैं आत्मविश्वासी हूँ, मैं सफल हूँ, तो यह तुम्हारे अवचेतन मन मैं बैठ जाएगा। और जब तुम्हारे दिमाग को इसकी आदत पद जाएगी, तब वह तुम्हें भी वैसा बना देगा।

मेरी मानो तो पहले कोशिश करके देखो, मैं खुद इसका इस्तेमाल करता हूँ और मुझे पता है कि ये कितना फायदेमंद है। घूम फिर के एक ही मतलब है इसका, जैसा तुम सोचोगे वैसे ही तुम बनोगे।

 

4. ये हेकड़ी है या आत्मविश्वास?

 

हेकड़ी, अभिमान और आत्मविश्वास के बीच में एक छोटा सा अंतर है बस। अब ये कैसे पता चलेगा कि कब मैं विश्वास है और कब हेकड़ी? थोड़ा गहराई में समझते हैं। आत्मविश्वास का मतलब है कि तुम्हें यह पता है कि तुम ये कर सकते हो और हेकड़ी का मतलब होता है कि सिर्फ तुम ही कर सकते हो।

अगर तुम ये ठान लो कि तुम्हारा मुक़ाबला खुद से ही है, तो तुम दिन बढ़ीं बेहतर होते जाओगे। तुम्हारे अंदर सीखने कि भावना और विनम्रता रहेगी। एक समय बाद यही आत्मविश्वास तुम्हें अपनी नज़रों में ऊँचा करेगा। हेकड़ी या दुसरो को नीचे दिखाना कहीं भी काम नहीं आएगा|

 

5. ध्यान दो

 

ध्यान उन्ही चीज़ों पर दो जो तुम कर सकते हो। अगर तुम बार बार ये सोचते हो कि, तुम्हारे पास यह कौशल नहीं है, या मैं मैं ये चीज़ नहीं कर पाउँगा, तो तुम्हारा आत्मविश्वास नहीं बढ़ेगा।

जितना ध्यान तुम उन चीज़ों पर लगाओगे जो तुम नहीं कर सकते हो, तुम्हारा आत्मविश्वास नहीं बढ़ेगा। तो अब कर क्या सकते हैं? इस दुनिया में सब को कोई ना कोई ऐसी चीज ज़रूर मिली है, जो उनके लिए अद्वितीय या विशेष है।

तो अगर तुम उस चीज़ पैर ध्यान देते हो बजाये इसके कि दूसरे के पास क्या है तो तुम्हारा आत्मविश्वास शत-प्रतिशत बढ़ेगा ही।

 

6. तुम्हारे आस-पास के लोग

 

आत्मविश्वास बढ़ाने के उपाय

 

अपने आप को ऐसे लोगों के बीच रखो, जो तुम पैर भरोसा करते हैं। अगर तुम्हारे आस-पास ऐसे लोग हैं,जो बार-बार यह बोले कि तुम कुछ नहीं कर सकते।

तोह क्या तुम्हें लगता है कि आत्मविश्वास  आएगा? ऐसे लोगों कि तरफ बेहरा होना ज्यादा बेहतर है। इन नकारात्मक सोच वालों को अनसुना करो और उन लोगों कि तरफ जाओ, जो तुम पैर भरोसा करते हैं। तब देखना तुम्हारा कॉन्फिडेंस किस लेवल पर पहुंच जायेगा।

 

7. बस शुरू करो

 

ज़िंदगी में हर चीज के बारे में एक बात ध्यान में रखना कि, जब तक करोगे नहीं आगे बडोगे नहीं! यह जरूर है कि शुरुआत में तुम विफल होगे, काफी मुश्किलें आएँगी पर कम से कम, शुरू तो करोगे।

अगर एक नाव को देखा जाए तो, वह समुद्र में तैरने के लिए बनी है। तो ज़ाहिर सी बात है कि उसे लहरों का सामना करना ही पड़ेगा। पर अगर उसी नाव  को तुम, टापू से बांध के रखोगे तो क्या फ़ायदा। नाव को पानी में उतारोगे तभी आगे बढ़ पाओगे, अगर किसी भी चीज़ से बंध कर रहोगे तो आत्मविश्वास दूर कि बात है, साहस भी नहीं आ पायेगा।

 

इन सारी tips में से अगर तुम थोड़ी सी भी टिप्स इस्तेमाल कर सकते हो, तो सिर्फ सात दिनों के लिए करके देखो। मैं गारंटी देता हूँ कि, तुम्हारा आत्मविश्वास का स्तर 100% बढ़ेगा। जैसे मैंने पहले बताया कि जब तक करोगे नहीं, आगे बडोगे नहीं। तो पहले करना शुरू करो फिर सोचना कि क्या होगा।

 

चलो तब तक के लिए, उनके साथ यह लेख शेयर करो जिन्हें इसकी सबसे ज़्यादा ज़रूरत है और एक हफ्ते बाद आकर बताना मुझे comment section में कि कैसा लगा? क्या कोई बदलाव आया? मैं जानता हूँ 100% आएगा. अब तुम्हें अगले लेख में मिलूंगा तब तक के लिए ज़िंदा रहो.

 

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter

Releated Posts